Home » Blog » गोबर में उपस्थित गुण जो शुद्ध होता है।

गोबर में उपस्थित गुण जो शुद्ध होता है।

गाय के गोबर से बनी धुपबत्ती का उपयोग करना बहुत ही लाभप्रद माना गया है। यह वातावरण को शुद्ध करता है। तथा ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाने में भी मदद करता है।

धुपबत्ती के राख के फायदे

धुपबत्ती में जलने के बाद उसकी राख का उपयोग करने से खासी बुखार उलट प्रेशर जैसी कई बीमारियों को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। लेकिन इसको चिकित्सक के निगरानी में ही इसका उपयोग करना उचित होगा क्योंकि कितने मात्रा में लेना है।इसका का ज्ञान होना जरूरी है।

धुपबत्ती से लाभ

गोधूपबत्ती जलाने से शरीर में शक्ति का अनुभव होता है। रोग भी इससे दूर होने लगते हैं क्योंकि मार्केट में केमिकल धुपबत्ती का बहुत उपयोग होता है। इसलिए हमारे शरीर में बहुत ही हानिकारक प्रभाव छोड़ता है। इस कारण हमें गोमाता के गोबर से बने बत्ती का उपयोग करना चाहिए ताकि हम स्वस्थ रह सके ।

गृहकलेश व नकारात्मकता को दूर करता हैं।

गौ माता के गोबर से बने धुपबत्ती में कपूर, गूगल जटामांसी जैसे जड़ी बूटी का मिश्रण से बना होता है। इसलिए यह हमारे ग्रहकलह व नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने में मदद करता है। तथा ग्रह नक्षत्रों से होने वाले छोटे-मोटे बुरे असर को भी दूर करता है। यह धुपबत्ती पितृदोष को भी दूर करता है। वह इससे पित्र यज्ञ पूर्ण हो जाता है।

मार्केट में बने अगरबत्ती बांस व केमिकल से बने होने के कारण बांस को पित्र दोष का कारण माना गया है। जो हमारे हिंदू संस्कृति में बांस को जलाना वर्जित माना जाता है। फिर भी हम इसे जान कर भी अनदेखी कर दे रहे हैं। हमारे सनातन संस्कृति के अनुसार हमें गौ माता के गोबर से बने धुपबत्ती का उपयोग शुभ माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *