A2 देसी घी के लाभ Benefits of A2 Desi Cow Ghee

    A2 देसी घी के लाभ Benefits of A2 Desi Cow Ghee

    देसी घी में कई आवश्यक फैटी एसिड जैसे ओमेगा -3,  और 9 से समृद्ध है। इसका आशय यह  है कि यह फैटी एसिड के गुणों के कारण शरीर को अच्छी प्रकार से कार्य करने में सहायता करता है। इन फैटी एसिड की कमी के विषय में,यह मस्तिष्क संतुलन और अन्य स्वास्थ्य विकारों का कारण बन सकता है। इसलिए हमें शुद्ध देसी A2 घी जैसे आहार स्रोतों के माध्यम से इसका नियमित सेवन करने से इनकी पूर्ति कर सकते है।

    हमारे देश मे गाय को पूज्यनीय माना जाता है। इसकी वंदना करते है। यदि हम यह कहें कि गाय हमारे जीवन में खुशियां भर सकती है, तो किसी प्रकार की अतिश्योक्ति नहीं होगी । गाय का कच्चा दूध पीने से शरीर के अंदर की कई सारी बीमारियां स्वत: ही समाप्त हो जाती हैं। गाय का मूत्र कई बीमारियों में लाभकारी  है। जहां तक देसी गाय के घी की बात करे तो इससे दर्जनों बीमारियों को जड़ से समाप्त किया जा सकता है। देसी गाय की घी न सिर्फ पागलपन दूर कर सकता है, बल्कि ऐसे दर्जनों बीमारियां हैं, जिसको ठीक किया जा सकता है। जो लाखो -करोड़ो रुपए खर्च करके भी आराम नहीं मिल रहा है,वहाँ घी के साधारण प्रयोग से आप स्वस्थ हो सकते हैं। इस लिए शुद्ध देसी गाय के घी को अमृत तुल्य माना गया है। जो हमारे स्वास्थ्य को स्वस्थ बनाने में सहायता करता है।

    1. देसी गाय का घी नाक में डालने से पागलपन दूर होता है। घी के बूंदों को नाक में डालने से एलर्जी समाप्त हो जाती है।
    2. देसी गाय का घी नाक में डालने से लकवा का रोग में भी उपचार होता है। 15 से 20 ग्राम घी व मिश्री खिलाने से शराब, भांग व गांझे का नशा कम करने में भी देसी घी लाभप्रद है।
    3. गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना ओपरेशन के ही ठीक हो जाता है और नाक में घी डालने से नाक की खुश्की दूर होती है व दिमाग को तरोताजा करने में सहायता करता है।
    4. देसी गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लोट आती है। देसी घी को बाल में लगाने से बाल का झडऩा समाप्त हो जाता है।
    5. देसी गाय के घी को नाक में डालने से मानसिक शांति मिलती है और याददाश्त तेज होती है। हाथ पाव मे जलन होने पर गाय के घी को तलवो में मालिश करने से जलन में लाभ होता है।
    6. हिचकी के न रुकने पर देसी गाय का आधा चम्मच घी का सेवन करने से हिचकी रुक जाती है व शुद्ध देसी घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।
    7. देसी गाय के घी से बल और वीर्य बढ़ता है और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी बढ़ाने में सहायक  होता है। शुद्ध देसी पुराने घी से बच्चों के छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की समस्या दूर हो जाती है।
    8. अगर आपको शरीर मे कमजोरी का अनुभव होने लगे तो,एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लेंवे,हाथ के हतेली और पांव के तलवो में जलन होवे तो देसी घी की मालिश करने से जलन को दूर करने में सहायता मिलती है।
    9. देसी गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है बल्कि इस बीमारी को फैलने से भी रोकने में सहायता करता है। 
    1. जो व्यक्ति हार्ट अटैक से पीड़ित है और चिकनाइ युक्त भोजन खाने की मनाही है, तो गाय का घी खाएं इससे हार्ट मजबूत होता है।
    1. देसी गाय के घी में कैंसर से लडऩे की क्षमता अधिक होती है। इसके सेवन करने से स्तन व आंत के कैंसर से बचा जा सकता है। इसी लिए देसी गाय के घी को अमृत कहा गया है।
    1. शुद्ध देसी घी, छिलका सहित पिसा हुआ काला चना और पिसा हुवा शक्कर तीनों को समान मात्रा में मिलाकर लड्डू बना लेवे । इस लड्डू को  प्रात: खाली पेट अच्छी तरह चबाकर सेवन करने के बाद एक गिलास मीठा गुनगुना दूध घूंट-घूंट करके पीने से स्त्रियों के प्रदर रोग में आराम देता है और पुरुषों का शरीर मोटा ताजा व शरीर को सुडौल और बलवान बनाने में सहायता करता है।
    1. हाथ पैरों में फफोलो आने पर देसी गाय का घी लगाने से इसमे आराम मिलता है। शुद्ध घी को झाती पर मालिस करने से बच्चो के बलगम को बहार निकालने मे सहायक होता है।
    1. सांप के काटने पर 100 से 150 ग्राम घी पिलायें उपर से जितना गुन-गुना पानी पिला सके उतना पिलायें जिससे उलटी और दस्त तो लगेंगे ही परन्तु इससे सांप का विष कम होने लगता है। 
    1. दो बूंद देसी गाय का शुद्ध घी नाक में सुबह व शाम डालने से माइग्रेन का दर्द ठीक हो जाता है और सिर-दर्द होने पर शरीर में गर्मी लगती हो, तो गाय के घी की पैरों के तलवे पर मालिश करे, सर दर्द ठीक हो जायेगा।
    1. यह बात ध्यान देने योग्य है कि गाय के घी के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है। वजन भी नही बढ़ता,परन्तु वजन को संतुलित बनाये रखता है और इसमे कमजोर व्यक्ति का वजन बढ़ता है व मोटे व्यक्ति का वजन कम होता है।
    1. एक चम्मच गाय का शुद्ध घी और 1/4 चम्मच पिसी काली मिर्च को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय चाट कर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से आंखों की ज्योति बढ़ाने में सहायता करता है।
    1. देसी गाय का घी एक अच्छा कोलेस्ट्रॉल है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को देसी गाय का घी का सेवन करना चाहिए। यह एक बहुत अच्छा टॉनिक का कार्य करता है और आप शुद्ध घी की कुछ बूंदें दिन में तीन बार, नाक में प्रयोग करेंगे तो यह त्रिदोष वात पित्त और कफ को संतुलित करने में सहायता करता है।

    पाचन तंत्र के लिए है लाभकारी 

    अगर आपको पाचन कम होता है तो घी में ब्यूटिरिक एसिड की उपस्थिति, इसे एक सुन्दर विकल्प बनाती है। प्रतिदिन आप इसे अपने भोजन के साथ सेवन करने से आप अपच, सूजन को दूर कर सकते हैं।

    अस्थि स्वास्थ्य के लिए है लाभकारी है

    जैसे कि देसी घी में विटामिन K2 भी होता है जो अन्य खाद्य पदार्थों में आसानी से नहीं पाया जाता। यह शरीर को अस्थि (हड्डियों) की उचित वृद्धि सुनिश्चित करने में सहायता करता है। यह ऑस्टियोपोरोसिस जैसी स्वास्थ्य के लिए भी सहायता करता है।

    कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करता है

    शुद्ध देसी A2 घी में सीएलए या संयुग्मित लिनोलिक एसिड सम्मिलित है, जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट एजेंट है और सूजन वाले तत्वों से मुकाबला करने में सछम है। यही कारण है कि कैंसर कोशिकाएं स्वयं-नष्ट होती जाती  हैं।

    खांसी और जुकाम में है लाभदायक 

    यह उन लोगों के लिए अच्छा है जो नाक में गंभीर एलर्जी से पीड़ित हैं। आपको बस देसी घी की 4 से 5 बूंदें डालनी है और उसके बाद, आप वास्तव में अच्छा अनुभव करेंगे। कम से कम एक महीने तक इसका प्रयोग करें और यह आपको खांसी और जुकाम में लाभ देगा।

    तत्व जो देसी घी में पाए जाते है

    देसी घी में सैच्युरेटेड फैटी एसिड के अलावा विटामिन a ई और k2 भी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें कई शक्तिशाली स्वास्थ्य लाभ हैं।

    वजन को कम करने में सहायता करता हैं

    देसी घी में ऐसे गुण पाए जाते हैं। जो आपके मेटाबॉलिज्म को तेजी से बढ़ाने में सहायता करता है। अगर वजन कम करना चाहते हैं तो रोजाना 1 चम्मच देसी गाय का घी जरूर खाएं। या आयुर्वेदाचार्य से सलाह लेकर भी सेवन कर सकते है।

    अर्थराइटिस के दर्द में  होता हैं लाभदायक

    देसी घी में ओमेगा 3 फैटी एसिड के साथ प्राकृतिक लुब्रिकेंट पाया जाता है। जो अर्थराइटिस के कारण होने वाले दर्द में लाभदायक होता है। 

    पाचन तंत्र को रखें दुरस्त

    प्रतिदिन एक चम्मच देसी गाय के घी का सेवन करने से आपका पाचन तंत्र अच्छा रहता हैं। जिसके कारण आपके पेट दर्द, एसिडिटी, कब्ज जैसी समस्याओं को दूर करने में सहायता करता हैं।

    शरीर को शक्तिशाली बनाता हैं

    प्रतिदिन देसी गाय का घी  सेवन करने से हमारे शरीर को मानसिक और शारिरिक रूप से शक्तिशाली बनाता है। इसके साथ ही हमारे शरीर की हड्डियां को भी आईलींग हो जाती हैं। जिसके कारण वह जल्दी घिसती नहीं ।

    स्किन में ग्लोइंग लाता हैं

    देसी घी में विटमिन a, द, ई  जैसे तत्व पाए जाते हैं। जो आपकी स्किन को हेल्दी रखने के साथ-साथ इसे जवां रखने में भी सहायता करता हैं। इसके साथ ही ड्राई स्किन की समस्या से भी  छुटकारा  दिलाता है

    इम्यूनिटी को शक्तिशाली बनाता है।

    देसी घी में एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ विटामिन a पाया जाता है। जो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में बहुत सहायता  करता है।

     

    भारतीय देसी गायों का नस्ल एवं महत्व

     

    भारतीय देसी गायों के उत्पाद आर्डर करें Order Now 

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *